भारत में Eye Flu: 5 तरह से फैल रहा कंजंक्टिवाइटिस, जानें लक्षण और बचने के उपाय 

भारत में कंजक्टिवाइटिस तेजी से फैल रहा है. स्वास्थ्य विभागों द्वारा इससे बचने की एडवाइजरी भी जारी की गई है. 'कंजक्टिवाइटिस, कंजंक्टिवा (आंख का सफेद हिस्सा) की सूजन है. इसे आम भाषा में आई फ्लू  के नाम से भी जाना जाता है.

Eye flu types:

वायरल कंजक्टिवाइटिस सबसे आम प्रकार है और एक वायरस के कारण होता है.  यह वायरस संक्रामक होता है और किसी संक्रमित व्यक्ति के सीधे संपर्क में आने या वायरस से दूषित सतहों को छूने से फैल सकता है.

वायरल कंजक्टिवाइटिस (Viral Conjunctivitis)

बैक्टीरियल कंजक्टिवाइटिस, बैक्टीरिया के कारण होता है और इसमें आंखों का लाल होना, पानी निकलना और इसमें आंखों का लाल होना, पानी निकलना और चुभन होना काफी आम है. यह संक्रमित व्यक्ति के सीधे संपर्क में आने से या किसी संक्रमित व्यक्ति के साथ चीजें शेयर करने से फैल सकता है. 

बैक्टीरियल कंजक्टिवाइटिस (Bacterial Conjunctivitis)

एलर्जी कंजक्टिवाइटिस धूल के कण, पालतू जानवरों की रूसी या कुछ रसायनों जैसे एलर्जी के कारण हो जाती है. या कुछ रसायनों जैसे एलर्जी के कारण हो जाती है. यह अधिक संक्रामक नहीं है और इससे दोनों आंख इफेक्टेड होती हैं.

एलर्जी कंजक्टिवाइटिस (Allergic Conjunctivitis)

कैमिकल कंजक्टिवाइटिस, उत्तेजक पदार्थों या कैमिकल के संपर्क में आने से होता है. जैसे स्विमिंग पूल के पानी में मिला क्लोरीन, धुआं या फ्लोर या बेस क्लीनर्स से निकलने वाली गैस.

कैमिकल कंजक्टिवाइटिस (Chemical Conjunctivitis)

जीपीसी, कंजक्टिवाइटिस का काफी कॉमन रूप है जिसमें आंखों की पल कम सामान्य रूप है, जिसमें पलकों की भीतरी सतह पर पैपिला (उभार) बन जाते हैं. 

जाइंट पैपिलरी कंजंक्टिवाइटिस (Giant Papillary Conjunctivitis)